janhittimes

Cristiano Ronaldo 50 लाख की इस मशीन से मेंटेन रखते हैं Fitness ! माइनस 148 °C रहता है इसका Temperature !

Bollywood सेलिब्रिटी हो या Hollywood सेलिब्रिटी, हर कोई उनके जैसी बॉडी बनाना चाहता है। सेलेब्रिटीज जैसी फिटनेस पाने के लिए कई लोग उनकी डाइट और वर्कआउट प्लान भी फॉलो करते हैं, लेकिन फिर भी उनके जैसी बॉडी नहीं बना पाते। इसका कारण है कि हर इंसान की बॉडी, हार्मोंस, लाइफस्टाइल अलग-अलग होते हैं। इसलिए एक ही तरह की डाइट और वर्कआउट हर इंसान पर एक जैसा असर नहीं दिखाती।

Cristiano Ronaldo 50 लाख की इस मशीन से मेंटेन रखते हैं Fitness ! माइनस 148 °C रहता है इसका Temperature !

सेलिब्रिटीज स्ट्रिक्ट डाइट, वर्कआउट, लाइफस्टाइल, पर्याप्त नींद और कई छोटी-छोटी बातें को ध्यान में रखते हुए फिटनेस पाते हैं, जो कि आम लोगों के लिए काफी मुश्किल हो सकता है। बता दें, वर्कआउट के अलावा वे अपनी दिनचर्या में कई ऐसी चीजें और ट्रेंडी टेक्नीक्स को भी जोड़ते हैं, जिससे उन्हें फिटनेस पाने और मेंटेन रखने में मदद मिलती है। अगर दुनिया के बेस्ट फुटबॉलर में से एक क्रिस्टियानो रोनाल्डो की बात करें तो उन्होंने कुछ समय पहले अपने 11 साल के बेटे के साथ एक फोटो शेयर किया था।

इसमें वे क्रायोथेरेपी चैंबर के बाहर खड़े हुए हैं, जिससे उन्हें अपनी फिजीक को मेंटेन रखने में मदद मिलती है। Independent.co.uk के मुताबिक, उन्होंने इस खास चैंबर के लिए लगभग 48-50 लाख रुपये खर्च किए हैं। क्रायोथेरेपी चैंबर क्या होता है और इसकी क्या खासियत होती हैं, इस बारे में भी जान लेते हैं।

क्या होता है क्रायोथेरेपी चैंबर ?

क्रायोथेरेपी को कोल्ड थैरेपी नाम से भी जाना जाता है। इसका प्रयोग कई डॉक्टर्स मरीजों के इलाज में भी करते हैं। क्रायोथेरेपी को 1970 के दशक में जापानी रुमेटोलॉजिस्ट तोशिमा यामागुची (Toshima Yamaguchi) द्वारा बनाया गया था और 1980-1990 के दशक में यूरोप, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में पेश किया गया था। मांसपेशियों में दर्द को कम करने से लेकर डिप्रेशन कम करने तक क्रायोथेरेपी का प्रयोग किया जाता है।

क्रायोथेरेपी का उपयोग सॉफ्ट टिश्यूज को डैमेज होने के बाद या सर्जरी के बाद मसल्स दर्द, मोच और सूजन को कम करने में भी किया जाता है। क्रायोथेरेपी, हाइपोक्सिक कोशिका को डेड होने, सूजन को बढ़ने और मसल्स की ऐंठन को कम करने के लिए किया जाता है, जिससे मसल्स टिश्यूज का तापमान कम बना रहता है और रिकवरी तेजी से होती है।

By : News Desk

Web Stories

Related News