janhittimes

थाने के अंदर शिक्षिका का अपमान, पुलिसकर्मियों ने महिला टीचर को कहा- वेश्या

पुलिस जनता की सुरक्षा के लिए हमेशा आगे रहती है। इस बात को हम सभी सुनते आ रहे हैं। लेकिन क्या ऐसा सच में हैं, क्या पुलिस सच में हमारी सुरक्षा करती हैं? इस घटना को पढ़कर तो नहीं लगता। दरअसल, सोनीपत के थाना बड़ी में पुलिस के PSI ने वर्दी की गरिमा को तार तार कर महिला शिक्षिका को जलील करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। निजी स्कूल में बच्चों को पढ़ाने वाली मैडम ने थाने में दो व्यक्तियों के खिलाफ फोन पर अश्लील मैसेज भेजने और गाली गलौज करने की शिकायत दी थी, लेकिन कार्रवाई करना तो दूर महिला को ही थाने में बुलाकर भद्दे कमेंट किए गए।

महिला सुरक्षा का सच

जानिए पूरा मामला

आपको बता दें कि, बड़ी गांव की एक महिला ने इलाका मजिस्ट्रेट की कोर्ट में इस्तगासा दायर करके बताया कि उसके पति की 11 साल पहले मौत हो चुकी है। वह एक लड़की-लड़की की मां है। बच्चों के पालन पोषण के लिए वह एक प्राइवेट स्कूल में बच्चों को पढ़ाती है।

30 सितंबर 2021 से यूपी के मदरिया थाना इनायत नगर जिला अयोध्या, निवासी नीरज शर्मा उसे परेशान कर रहा है। वह उसके मोबाइल फोन पर कॉल करके गंदे शब्द इस्तेमाल करते हुए उसे जबरदस्ती उठा कर ले जाने और बलात्कार करने की धमकी देता है। कई बार उसे समझाया, लेकिन वह हरकतों से बाज नहीं आया। अयोध्या का ही रहने वाला अवधेश शर्मा, जो नीरज का चचेरा भाई है, इन हरकतों में उसका साथ देता है।

अवधेश उसका पीछा करके उससे जुड़ी सारी बातें नीरज को बताता है। इसके बाद नीरज शर्मा उसे फोन करके उसकी लोकेशन बता कर उसे डराता है। वह इनका विरोध करती है तो उसे बच्चों को जान से मारने की धमकी दी जाती है। दोनों फोन करके लगातार अश्लील कमेंट भी करते हैं। महिला टीचर का कहना है कि दोनों से तंग आकर उसने सोनीपत के एसपी को शिकायत दी।

शिकायत क्रमांक 2021/105787 को कार्रवाई के लिए थाना बड़ी में भेजा गया था। बड़ी थाने के PSI अरूण कुमार ने 3 अक्टूबर 2021 को थाने में बुलाया। महिला का आरोप है कि थाने में सबके सामने उसके चरित्र पर लांछन लगाया गया, भद्दी गालियां दी गईं। आरोपियों पर कार्रवाई करने की बजाय उसे फोन बंद करने को कहा गया। महिला टीचर ने कोर्ट में दायर किए इस्तगासे में थाना बड़ी के PSI अरूण कुमार पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

महिला ने कहा कि PSI ने सबके सामने उस पर भद्दे कमेंट किए। यह भी कहा कि वह आरोपियों से मिली हुई है। जाओ उससे (नीरज शर्मा) से मिलो। PSI ने आरोपियों पर कार्रवाई करने की बजाय उससे कहा कि आप अपना फोन भी बंद कर सकती हो। हमारे पास इतना समय नहीं है कि इस तरह की शिकायतें दर्ज करें। उसे कहा गया कि वह कहीं भी चली जाए, उसका व आरोपियों का कुछ नहीं बिगड़ने वाला।

महिला शिक्षिका का कहना है कि उसने बाद में मामले की जानकारी अपने भाई को दी। उसका भाई आरोपियों पर कार्रवाई की गुहार लगाने PSI अरूण कुमार के पास गया। आरोप है कि अरूण ने उसके भाई को कहा कि तेरी बहन का चाल चलन ठीक नहीं है। उसकी नीरज के साथ बातचीत है।

उसने आरोपियों पर कार्रवाई करने से मना कर दिया। महिला ने पुलिस के कई अधिकारियों को भी शिकायत दी, लेकिन उसे कहीं भी न्याय नहीं मिला और अंत में इलाका मजिस्ट्रेट की कोर्ट में इस्तगासा दायर करके न्याय की गुहार लगाई है। महिला टीचर ने कोर्ट से गुहार लगाई कि नीरज कुमार, इसके चचेरे भाई अवधेश शर्मा और PSI अरूण कुमार के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

इलाका मजिस्ट्रेट ने शिकायत को गंभीरता से लेते हुए पुलिस को तीनों के खिलाफ केस दर्ज करने के आदेश दिए। थाना बड़ी पुलिस ने अब कोर्ट के आदेश के बाद महिला टीचर की शिकायत पर नीरज शर्मा, अवधेश शर्मा और पुलिस कर्मी अरूण कुमार के खिलाफ 19 मई को धारा 119,166,166ए,167, 294, 354, 354ए, 354बी, 506,120बी के तहत केस दर्ज किया है।

By : News Desk

Web Stories

Related News