janhittimes

ग्रेनो प्राधिकरण की समीक्षा बैठक में औद्योगिक विकास मंत्री ने दिए निर्देश

Greater Noida: ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के जिन आवंटियों की तीन या उससे अधिक किस्तें डिफॉल्ट हो चुकी हैं और उनको तीन नोटिसें जारी हो चुकी है, उनके आवंटन को आगामी दो सप्ताह में निरस्त किया जाएगा। उनको और नोटिस नहीं भेजी जाएगी। बृहस्पतिवार को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की समीक्षा बैठक के दौरान प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री नंद गोपाल गुप्ता ‘नंदी’ ने यह निर्देश दिए हैं।

ग्रेनो प्राधिकरण

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के बोर्ड रूम में शाम चार बजे से शुरू हुई समीक्षा बैठक में मंत्री ने विभागवार समीक्षा की। प्राधिकरण के सीईओ व मेरठ मंडलायुक्त सुरेंद्र सिंह ने मंत्री के समक्ष ग्रेटर नोएडा के विकास से जुड़ी परियोजनाओं, वित्तीय स्थिति व अतिक्रमण आदि पर रिपोर्ट प्रस्तुत की। मंत्री ने वित्तीय स्थिति की समीक्षा के दौरान कहा कि जिन आवंटियों की तीन या उससे अधिक किस्तें डिफॉल्ट हो चुकी हैं व जिनको तीन नोटिसें जारी हो चुकी हैं उनको और नोटिस भेजने के बजाय उनका आवंटन शीघ्र निरस्त किया जाए।
दो दिन में ऐसे डिफॉल्टरों की सूची तैयार करें और दो सप्ताह में इन सभी के आवंटन निरस्त करें। सबसे पहले बड़े डिफॉल्टरों के आवंटन निरस्त किए जाएं। मंत्री ने इस काम में लापरवाही करने वाले अधिकारियों व कर्मचरियों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए। प्राधिकरण की जमीन पर अतिक्रमण रोकने के लिए सीईओ ने मंत्री से सेपरेट फोर्स की मांग की, जिस पर मंत्री ने हामीं भर दी है। प्राधिकरण की तरफ से शीघ्र ही प्रस्ताव भेजा जाएगा। इससे जमीन कब्जाने वालों पर तुरंत कार्रवाई करने में मदद मिलेगी।
जमीन से जुड़े मसलों की कोर्ट में पैरवी करने के लिए प्राधिकरण में लीगल एडवाइजर तैनात किया जाएगा। मंत्री ने अपने कार्य को ठीक से न कर पाने, दो से तीन बार निलंबित हो चुके कर्मचारियों व अधिकारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्त देकर नौकरी से हटाने के निर्देश दिए। सुरेंद्र सिंह ने समीक्षा बैठक में स्टाफ की कमी का ब्योरा भी प्रस्तुत किया. जिस पर मंत्री ने डेपुटेशन पर तैनाती किए जाने की बात कही। मंत्री ने मित्रा एप व अन्य फोरम पर जन सामान्य की शिकायतों के त्वरित निस्तारण के निर्देश दिए। बैठक में सीईओ सुरेन्द्र सिंह के अलावा एसीईओ अदिति सिंह, दीप चंद्र व अमनदीप डुली, ओएसडी सौम्य श्रीवास्तव, सचिन कुमार सिंह व संतोष कुमार, महाप्रबंधक परियोजना एके अरोड़ा, महाप्रबंधक नियोजन मीना भार्गव, महाप्रबंधक संपत्ति आरके देव व डीजीएम केआर वर्मा आदि मौजूद रहे।

By : News Desk

Web Stories

Related News