janhittimes

नोएडा अथॉरिटी की CEO Ritu Maheshwari को SC से बड़ी राहत, गिरफ्तारी पर लगाई रोक

दिल्ली से सटे नोएडा से एक बड़ी खबर सामने आई है जहां भूमि अधिग्रहण से जुड़े अवमानना के एक मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने नोएडा प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) रितु माहेश्वरी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया था। इस दौरान इलाहाबाद हाई कोर्ट की ओर से जारी किए गए गैर जमानती वारंट मामले में सुप्रीम कोर्ट ने ऋतु माहेश्वरी की गिरफ्तारी पर रोक लगा दीया है।

Ritu Maheshwari

बता दें, इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें पुलिस हिरासत में पेश करने का निर्देश दिया था। लेकिन सुनवाई के दौरान रितु माहेश्वरी के अनुपस्थित रहने पर कोर्ट ने नाराजगी जताई थी। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने आज आईएएस ऋतु माहेश्वरी याचिका स्वीकार करते हुए फिलहाल गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। साथ ही याचिका पर सुनवाई का फैसला किया है। दरअसल, अभी तारीख तय नहीं की गई है। इससे पहले चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) एनवी रमना ने कहा था कि IAS अधिकारी हैं, आपको नियम पता है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, ‘हर दूसरे दिन कुछ अधिकारी गंभीर मामलों में भी निर्देश के लिए कोर्ट आ जाते हैं।’ सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा कि हर रोज हाई कोर्ट के आदेशों का उल्लंघन होता है, यह दिनचर्या हो गई है, हर रोज़ एक अधिकारी कोर्ट आ जाता है, यह क्या है?

इस मामले में गिरफ्तारी की लटकी थी तलवार

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने ऋतु माहेश्वरी के खिलाफ अवमानना मामले में पेश नहीं होने पर गैर ज़मानती वारंट जारी किया था। माहेश्वरी के वकील ने सुप्रीम कोर्ट से अंतरिम राहत की मांग की थी। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कहा था कि अगर आप हाई कोर्ट के आदेश का पालन नहीं करते तो आपको इसका नतीजा झेलना होगा। पूरा मामला एक जमीन अधिग्रहण का है। जहां नोएडा के सेक्टर 82 में प्राधिकरण ने 1989 और 1990 में अर्जेंसी क्लॉज के तहत भूमि अधिग्रहण किया था, जिसके खिलाफ जमीन की मालकिन मनोरमा कुच्छल ने चुनौती दी थी। इसके बाद इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 2016 में मनोरमा के पक्ष में फैसला सुनाया।

By : News Desk

Web Stories

Related News

Also Read