janhittimes

कहीं आप से ही तो नहीं फैल रहा कोरोना? क्योंकि अब नहीं पता चल रहा लक्षण

देश में कोरोना एक बार फिर अपने पैर पसार चुका हैं। यहीं कारण है कि, हमे चौथी लहर की आहट होने लगी हैं। लेकिन इस लहर में ये बताना मुश्किल है कि, कौन संक्रमित है और कौन ठिक हैं। एक्सपर्ट का कहना है कि आने वाले 10 से 15 दिनों में भारत में भी कोरोना के मामले पीक पर होंगे। कोरोना वायरस हर किसी को अलग-अलग तरह से प्रभावित करता है। कुछ लोगों को इस वायरस के कारण गंभीर इंफेक्शन का सामना करना पड़ता है। जबकि कुछ लोगों में इस वायरस के हल्के लक्षण ही नजर आते हैं।

बता दें, कुछ लोग पूरी तरह से एसिम्प्टमैटिक (बिना लक्षण वाले) भी हो सकते हैं। एसिम्प्टमैटिक लोगों के शरीर में भले ही इस वायरस के कोई लक्षण नजर नहीं आते, लेकिन वह दूसरों को आसानी से संक्रमित कर सकते हैं। इसलिए बहुत से लोग यह जानना चाहते हैं कि आखिर कैसे पता लगाया जाए कि कोई व्यक्ति एसिम्प्टमैटिक कोविड कैरियर है या नहीं। इन लोगों के एसिम्प्टमैटिक होने की संभावना ज्यादा- कुछ लोगों में कई कारणों के चलते कोरोना के कोई लक्षण नजर नहीं आते। उदाहरण के लिए, नौजवानों में बुजुर्गों के मुकाबले कोई गंभीर लक्षण नजर नहीं आते। शायद ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि नौजवानों की इम्यूनिटी बुजुर्गों की तुलना में स्ट्रॉन्ग होती है।

कैसे पता करें कि आप एसिम्प्टमैटिक हैं या नहीं- एसिम्प्टमैटिक हैं या नहीं ये जानने का सबसे बेहतर तरीका RT-PCR और रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाना है। कोरोना के संपर्क में आने के बावजूद भी अगर आपके शरीर में कोई लक्षण नजर नहीं आते तो भी आपको अपना टेस्ट जरूर कराना चाहिए। साथ ही यह भी बेहद जरूरी है कि आप खुद को आइसोलेट कर लें।

तो वहीं राजधानी दिल्ली में बीते 24 घंटों में कोरोना के नए मामलों में इजाफा हुआ है, लेकिन संक्रमण दर कम हुई है। कोरोना के 1365 से अधिक मामले मिले हैं व संक्रमण दर 6.35 फीसदी रही है। इससे एक दिन पहले यह 7.64 फीसदी दर्ज की गई थी। बीते एक दिन में एक भी मरीज ने कोरोना से दम नहीं तोड़ा है। राहत की बात यह है कि 1472 मरीजों ने कोरोना को हराया है।

 

BY: News Desk 

JANHITTIMES 

Web Stories

Related News

Also Read