janhittimes

करते हैं Online Shopping तो रहें सावधान! लग सकता है लाखों का चूना

आजकल सभी को Online Shopping करने का शौक हैं। लेकिन क्या आप जानते है, online shopping से कभी कभी नुकसान भी खुशी से ज्यादा होता हैं। आइए आज आपको बताते हैं एक प्रोफेसर की आप बीती….जिन्होंने मंगाया था क्या और मिला क्या।

पढ़िए…..

चंदौसी निवासी राज शेखर सिंह एसएम कॉलेज में प्रोफेसर हैं। उन्होंने मंत्रा डिजाइंस प्राइवेट लिमिटेड की साइट पर जाकर एक अरमानी घड़ी ऑनलाइन ₹10995 की बुक कराई । बुक कराने के उपरांत जब उन्हें जो पार्सल मिला वह टूटा हुआ निकला। जिसके लिए उन्होंने मंत्रा की साइट पर शिकायत की परंतु कोई सुनवाई नहीं हुई। उन्होंने जिला उपभोक्ता न्यायालय में जाकर मामले का जिक्र किया। आयोग ने मंत्रा डिजाइंस प्राइवेट लिमिटेड व उसकी सहयोगी विक्रेता सवादिका रिटेल प्राइवेट लिमिटेड को नोटिस जारी किया।

Letter

जिसके बाद दोनों पक्षों ने अपने साक्ष्य प्रस्तुत किये। प्रोफेसर के परिवादी अधिवक्ता व उपभोक्ता मामलों के जानकार लव मोहन वार्ष्णेय ने आयोग को बताया कि मन्त्रा डिजाइंस प्राइवेट लिमिटेड व सावादिका रिटेल प्राइवेट लिमिटेड से एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से एक अरमानी वॉच ₹10995 देकर प्राप्त की।

जब उसका पार्सल खोला गया तो उसके अंदर वॉच नहीं निकली बल्कि कुछ अपशिष्ट आसार वस्तुएं निकली जो विपक्षीगण द्वारा ऑनलाइन फ्रॉड एवं अनुचित व्यापार के अंतर्गत आता है। कोर्ट ने दोनों की बहस सुनी और यह पाया कि विपक्षी द्वारा जो परिवादी को प्रोडक्ट भेजा गया था। वह वास्तव में ही डिफेक्टेड था। आयोग के अध्यक्ष राम अचल यादव सदस्य आशुतोष ने परिवादी के पक्ष में अपना आदेश सुनाते हुए सवादिका रिटेल प्राइवेट लिमिटेड के विरुद्ध आदेश दिया और कहा कि वॉच का विक्रय मूल्य ₹10995 व उस पर वॉच खरीद की दिनांक से 6% बार्षिक व्याज अन्दर दो माह में अदा करें ।

इसके अलावा ₹10000 मानसिक कष्ट व आर्थिक हानि के एवं 5000 रु परिवाद व्यय के परिवादी को अदा करें। उपभोक्ता मामलों के जानकार अधिवक्ता लव मोहन वार्ष्णेय ने बताया कि आजकल अधिक्तम व्यापार ऑन लाईन हो रहा है। तो वही ऑन लाईन ठगी भी बड़ी है। लोगों को सतर्कता की जरूरत है जिससे ऑन लाईन ठगी से बचा जा सकता है।

By : News Desk

Web Stories

Related News

Also Read