janhittimes

जानिए आखिर क्यों CJI रमना ने कहा- लक्ष्मण रेखा का रखें ध्यान!

भारत के मुख्य न्यायाधीश (CJI) एन वी रमण ने शनिवार को कहा कि भारत का संविधान (The Constitution of India) राज्य के तीन अंगों के बीच शक्ति का विभाजन प्रदान करता है और कर्तव्य का निर्वहन करते समय, ‘लक्ष्मण रेखा’ का ध्यान रखना चाहिए।

CJI N. V. Ramana

राज्य के तीन अंगों – कार्यपालिका(executive), विधायिका (Legislature)और न्यायपालिका (Judiciary) – को अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते समय ‘लक्ष्मण रेखा’ के प्रति सचेत रहने की याद दिलाते हुए, उन्होंने सरकारों को आश्वासन दिया कि “न्यायपालिका कभी भी शासन के रास्ते में नहीं आएगी, अगर यह इसके अनुसार है कानून”। न्यायमूर्ति रमना ने कहा, “हम लोगों के कल्याण के संबंध में आपकी चिंता और चिंता साझा करते हैं।”रमना ने कहा कि न्यायिक घोषणाओं के बावजूद सरकारों द्वारा जानबूझकर निष्क्रियता लोकतंत्र के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है।

संवैधानिक खूबसूरती का सजीव चित्रण है यह सम्मेलन

तो वहीं पीएम मोदी ने कहा कि राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों का ये संयुक्त सम्मेलन हमारी संवैधानिक खूबसूरती का सजीव चित्रण है। हमारे देश में जहां एक ओर ज्यूडिशरी की भूमिका का संविधान संरक्षक की है वहीं विधान मंडल नागरिकों की आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं।

By : News Desk

Web Stories

Related News

Also Read