janhittimes

पटियाला में भिड़े हिंदू और सिख संगठन: जमकर चलीं ईंटें और तलवारें, SHO पर तलवार से हमला

पंजाब के पटियाला से बड़ी खबर आ रही है, जहां काली माता मंदिर के पास दो गुटों में झड़प हो गयी। यहां तलवारें भी लहराई गई। झड़प के बाद इलाके में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। दरअसल, पटियाला में आज शुक्रवार को जुलूस निकालने पर बवाल हो गया। ऐतिहासिक श्री काली माता मंदिर के पास शिवसैनिक और खालिस्तानी समर्थक सिख संगठन आमने सामने हो गए। इस दौरान दोनों तरफ से जमकर पत्थर चले। पुलिस ने दोनों पक्षों को रोकने के लिए फायरिंग की।

पटियाला में हंगामा।

जानिए पूरा मामला

आपको बता दें कि, पटियाला के आर्य समाज चौक में शुक्रवार को शिव सेना की ओर से तय कार्यक्रम के मुताबिक खालिस्तान का पुतला फूंक प्रदर्शन की तैयारी की जा रही थी। इसी बीच उस समय माहौल तनावपूर्ण बन गया। जब इसका पता लगते ही मौके पर खालिस्तानी समर्थकों ने पहुंच कर विरोध करना शुरू कर दिया। इस दौरान दोनों पक्ष आमने-सामने हो गए।

हालांकि मौके पर मौजूद भारी पुलिस फोर्स ने समझा-बुझाकर दोनों पक्षों को शांत कर दिया। लेकिन इसके बावजूद खालिस्तानी समर्थक श्री काली माता मंदिर के अंदर तलवारें लेकर पहुंच गए। इस दौरान हिंदू नेताओं व खालिस्तानी समर्थकों के बीच खूब ईंट-पत्थर चले। एक हिंदू नेता पर तेजधार हथियार के साथ हमला भी हुआ। इसी पर सिंगला ने कहा कि सिख फॉर जस्टिस के कन्वीनर गुरपतवंत पन्नू ने 29 अप्रैल को खालिस्तान का स्थापना दिवस मनाने की घोषणा की है।

इनको जवाब देने के लिए शिवसेना ने भी 29 अप्रैल को खालिस्तान मुर्दाबाद मार्च निकालने का ऐलान किया था। वहीं मार्च की सूचना मिलने पर भारी संख्या में खालिस्तान समर्थक पहुंच गए। इधर, डीसी ने कुछ मीडिया चैनलों पर चल रहे थाने के एसएचओ का हाथ काटने की खबर का खंडन किया है। डीसी ने कहा है कि इस तरह की कोई भी घटना नहीं हुई या केवल अफवाह है।

क्‍या कहा डीएसपी ने

क्षेत्र के डीएसपी की ओर से जानकारी दी गई है कि यहां कानून व्यवस्था की समस्या को देखते हुए पुलिस तैनात कर दी गई है। हम शिवसेना (दो समूहों में से एक) के प्रमुख हरीश सिंगला से बात कर रहे हैं क्योंकि उनके पास मार्च की अनुमति नहीं है।

By : News Desk

Web Stories

Related News

Also Read